याद…

दिन ढल चुका है शाम जा रही है यह रात भी देखो हम पर हंसे जा रही है हर वक्त तन्हाई खामोशी सता रही है कहना सिर्फ यही है –“आपकी…

“माँ” कैसी होती है…

“माँ” शब्द वो एहसास है की आप जब भी किसी तकलीफ में हो इस शब्द के एहसास मात्र से ही काफी राहत महसूस होती है.“माँ” बिना किसी शर्त के प्यार…