anurag

Law of Attraction वह Law है जो हमारे विचारों को वास्तविकता में बदलता है.

     Law of Attraction-बारबार ये कहा जाता है की अपने दिल की सुनो, अपने अंदर की आवाज सुनो लेकिन हम अपने अंदर की कौन सी बात को माने जो मेरा दिल कह रहा है या जो मेरा दिमाग कह रहा है या जो मेरे लिए अच्छा है या जो मेरे लिए अच्छा है लेकिन दूसरों के लिए बुरा है किस बात पर विश्वास करके आगे बढ़ें?

     Law of Attraction आपके विश्वासमें कितना विश्वासहै उस बात को सिद्ध करता है. सीधे शब्दों में कहें तो Law of Attraction आपका वह विश्वास है जो अगर सकारात्मक है तो सकारात्मक अनुभव लाएगा आपके जीवन में और अगर नकारात्मक है तो नकारात्मक अनुभव का एहसास होगा आपको। आपकी अपनी सोच आपके जीवन को निर्धारित करती है और ये भी एक सत्य है की आज जो हम हैं वही हमने सोचा है. इसलिए सोचते समय हमेशा ये ध्यान रखिये की आगे चल के आपको क्या करना है या बनना है. किसी भी चीज को करने के लिए या पाने के लिए आप को अपने ऊपर कितना विश्वास है ये काफी कुछ तय करता है और आपका ये विश्वास आपको आपके Knowledge और Experience से आता है.

     कहने का मतलब ये है की अगर हम सच्चे दिल से किसी को चाहे तो एक अद्भुत, अदृश्य शक्ति हमें उसको पाने, उससे मिलाने में हमारी मदद करती है. और मैंने ये बात अपने जीवन में खुद अनुभव किया है. बस आपको अपने ऊपर पूरा विश्वास होना चाहिए और अपने दिल और दिमाग में किसी भी प्रकार का डर नहीं पैदा होने देना है क्योंकि जहाँ डर होता है वहां विश्वास कमजोर हो जाता है उसके बाद जो आप चाहते हैं वो मिलेगा।

     बहुत लोगों ने अपने जीवन में Law of Attraction को समझा उसको apply किया और अपने जीवन में सफलता की ऊचाईयों पर पहुंचे। कुछ लोग एक महीने में 10 Commitment खुद से करते हैं और अंत तक किसी पर नहीं पहुंचते हैं लेकिन महान लोग 100 commitment को छोड़ देते हैं और कुछ को ही पकड़ के रखते हैं और अंत तक जाते हैं उसके। कुछ भी करने के पहले अपने विश्वास को बहुत मजबूत करना होगा।

anurag

     Law of Attraction, Psychology पर निर्भर रहता है. ये पूरी तरह से कल्पना पर आधारित है. जब आपकी सोच आपको कुछ करने या पाने के प्रेरित करती है तो उसी समय से उसी दिशा में कुछ कदम उठाने के लिए भी प्रेरित करती है. जैसे किसी कंपनी में Job Vacancy निकली लेकिन सबको नहीं मिलती, कुछ ही लोगों को मिलती है ऐसा नहीं है की जिसको मिली वही Deserving Candidate है या Selection कमेटी से कोई गलती नहीं हो सकती लेकिन मिलती उसी को है जिसका Ask, Belief & Receive strong होता है यही Law of Attraction का मूलभूत सिद्धांत है. मतलब की हमको सिर्फ सोचना नहीं है कुछ कदम भी उठाने होंगे।

Ask: बिना किसी स्पष्ट दृष्टि के हम किसी चीज को प्राप्त नहीं कर सकते हैं. मतलब हम जानते ही नहीं की हमको चाहिए क्या तो उसको प्राप्त कैसे करेंगे.

Believe:हमको ये विश्वास करना पड़ेगा कि जीवन में हमको वही मिलता है जिसके योग्य हम हैं, वो नहीं मिलता जो हम चाहते हैं.

Receive: जो भी हमें इस संसार से मिल सकता है हमें उसके योग्य अपने आपको बनाना है. क्योंकि मिलता उसी को है जो उसका Deserving है

     अपने आपको Deserving बनाना है फिर किसी से कुछ मांगने की जरुरत नहीं पड़ती। अगर मांगने से मिलता तो भिखारी के पास सबकुछ होता. Deserving आदमी कैसे बनता है belief से, belief क्या है आपका knowledge and experience. आपका knowledge and experience जितना ज्यादा होगा उतना ही ज्यादा आपका belief होगा। Belief को मजबूत करने के लिए आपको कर्म करना पड़ेगा, जानकारी इकठ्ठा करना पड़ेगा, जहाँ से जो ज्ञान मिले उसको ले लेना है. हमेशा सीखते रहना है.

anurag

     Law of Attraction का पहला नियम है Ask (मांगना). क्या मांगना है? Desire मांगना है, Desire कहाँ से आएगा? ये आएगा आपके thoughts से. अब सबसे मुश्किल काम है की कौन से thoughts को मांगना है और कौन से को नहीं मांगना है क्योंकि हमारे दिमाग में लगातार thoughts आते रहते हैं. और सबसे अहम् बात की अपने thoughts को मांगते समय अपने feelings के बारें में नहीं सोचना है क्यों की आपकी feelings हो सकता है की अच्छी हो, हो सकता है की feelings बुरी हों लेकिन thoughts ऐसे होने चाहिए जो अपने और अपने आसपास समाज के लिए अच्छे हो. अगर feeling अच्छी है तो करो और अगर feeling बुरी है तो भी करो अगर उसका आगे उसका परिणाम अच्छा होने वाला हो तो. सारांश ये है कि क्षण भर के अच्छे feeling के लिए आप बुरे thoughts को अपने ऊपर मत हावी होने दो और अगर किसी अच्छे कार्य के लिए थोड़ा बुरे feeling से भी सामना करना पड़े तो पीछे नहीं हटना है क्योंकि उसका परिणाम आपको आगे अच्छा मिलने वाला है. उदाहरण के तौर पर मान लीजिये आप चार दोस्त हैं, बाकि के तीन शराब पीते हैं और आप नहीं पीते हैं. जब वो तीन शराब पीते हैं और आप नहीं पीते हैं तो वो तीनो आपका मजाक उड़ाते हैं, आपको नीचा दिखाते हैं कुछ भी अनापशनाप बोल कर आपको शर्मिंदा करते हैं उस स्थिति में आपको “Feeling” बुरी होती है और आप उस क्षण भर के बुरे feeling को अच्छा करने के लिए शराब पी लेते हो तो वो feeling तो अच्छी हो जाती है लेकिन उसका परिणाम बुरा होता है और अगर आप उस क्षण भर के बुरे feeling को सहन कर लेते हो या ऐसे दोस्तों का साथ छोड़ देते हो तो ये आप अपने आने वाले जिंदगी के लिए अच्छा करते हो.

     कभी भी feeling के आधार पर अपने desire को तय नहीं करना चाहिए। क्योंकि feeling क्षणिक होती हैं.

     ऊपर मैंने एक बात और भी कही है कि Law of Attraction आपके सोच पर भी भी निर्भर करता है की आपकी सोच सकारात्मक है या नकारात्मक। इस बात को मैं एक छोटी सी कहानी के माध्यम से समझाना चाहता हूँ.

     बहुत पहले किसी एक जूते, चप्पल बनाने वाली कंपनी ने अपने दो आदमियों को एक दूर के शहर भेजा और कहा की वहां जाकर वहां के हालात बताओ की हम वहां अपना बिज़नेस कर सकते हैं या नहीं? दोनों आदमी दूसरे दिन वहां चले गए और वहां जाकर क्या देखा की उस शहर का कोई भी इंसान न तो जूता पहनता है न ही चप्पल, बहुत हैरानी हुई दोनों को. शाम को दोनों आदमियों ने अपने मालिक को अलगअलग पत्र लिखा। उन दोनों के पत्र में क्या लिखा था वो मैं आपको बताता हूँ, पहले आदमी ने अपने पत्र में लिखा की, “इस शहर में कोई आदमी जूता, चप्पल नहीं पहनता इसलिए यहाँ अपना बिज़नेस फ़ैलाने का कोई फायदा नहीं, मैं कल सुबह वापस आ रहा हूँ

     वहीं पर दूसरे आदमी ने लिखा की यहाँ किसी भी इंसान के पास पैरों में पहनने को कुछ भी नहीं है इसलिए यहाँ अपने कारोबार का बहुत ही अच्छा भविष्य है, आप जितना अभी जूता, चप्पल भेज सकते हो भेज दो मैं यही रुक रहा हूँ. अब यहाँ देखने वाली बात ये है की एक ही कंपनी के दो आदमी थे, एक साथ गए थे, समय एक था, शहर एक था लेकिन एक को वहां कुछ नहीं दिखा और एक को वहां अपने कंपनी का भविष्य दिखा। मतलब दूसरे आदमी के सोच में सकारात्मकता थी. और उसको भी शुरुआत में अच्छी Feeling नहीं आयी होगी, बहुत मेहनत करनी पड़ी होगी लेकिन उसका परिणाम उसको बहुत ही फलदायक मिला होगा और जो क्षणिक ख़ुशी के लिए वापस आ गया था वो वही रह गया होगा या उससे भी down हो गया होगा

     Law of Attraction के अनुसार आपकी प्रबल सोच ही आपके विचारों को वास्विकता में बदलती है, वो सपनो को हकीकत में बदलने के लिए कोई न कोई रास्ता निकाल लेती है.

अगर किसी चीज को शिद्दत से चाहो तो पूरी कायनात तुम्हे उससे मिलाने में लग जाती हैये फ़िल्मी संवाद एक अच्छा और बहुत ही नजदीक का उदाहरण है “Law of Attraction” का.

उम्मीद है आप लोगों को यह लेख पसंद आया होगा तो इस पेज को सब्सक्राइब करिये, शेयर करिये फेसबुक, ट्विटर पर और अपने जीवन में इस सिद्धांत को लागू करिये पूरा विश्वास है सफलता मिलेगी।

Your feedback always required for quality improvement.

Thank You!!!

12

By Anurag

10 thought on “Law of Attraction”
  1. बहुत ही प्रेरणात्मक लेख 👍👍👍

  2. […] बताते हैं. एक अच्छा दोस्त जीवन पर अपनी अमिट छाप भी छोड़ता है. मैंने अक्सर लोगों को कहते […]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *