Poem

अनिकेतन…

डॉ. आशीष श्रीवास्तव की कलम से… हम जो भटके दर दर, अब क्या खाक बनाएंगे घर, मैंने देखा सदन बने…