दिन ढल चुका है शाम जा रही है

यह रात भी देखो हम पर हंसे जा रही है

हर वक्त तन्हाई खामोशी सता रही है

कहना सिर्फ यही है –
“आपकी याद आ रही है”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *